मुस्लिमऔर इस्लामिक आतंकवाद !

मुस्लिम फ्रांस से इतना चिढा है कि उसके प्रोडक्ट का बॉयकाट का अभियान चलाया है। जबकि राष्ट्रपति मैंक्रो ने सही कहा है।

आतंकवादी “अल्लाहह हू अकबर”,’इंसा अल्लाह’ कह कर कितनी नृशंश घटना को अंजाम दिया। अल्लाह का नाम क्यों कभी नहीं खराब हुआ? जैश ए मोहम्मद आतंकी संगठन का बॉयकाट मुस्लिम क्यों नहीं चलाया। क्यों कि आतंकवादी अल्लाह के रास्ते पर है?

ISIS जैसे आतंकवादी मुसलमान की नजर में इस्लाम के नाम को अच्छा किया है इस लिए इसे मुस्लिम का समर्थन रहा है। इस्लामिक आतंकवाद पर मुग़लाते में न रहिये यह सीधे सीधे मुसलमानों के मौन समर्थन पर चल रहा है।

आतंकवादी मुस्लिम के लिए मसीहा, हीरो की तरह होते है लादेन,बगदादी, वानी, अफजल गुरु को देख लीजिए।
यदि आतंकवादियों से मुसलमानों को घृणा होती तो यह आतंकवाद जो फिलीस्तीन के मसले से 1969 में शुरू हुआ निपट गया होता है। इस्लाम के नाम पर लोगों का कत्ल जायज है।

इस्लामिक आतंकवाद के मसले पर पूरे विश्व को एक होना होगा। इनके साथ चीन,म्यामांर, श्रीलंका, अमेरिका,इजरायल अब फ्रांस जैसा व्यवहार सम्पूर्ण विश्व को करना होगा। यदि अपने लोगों के जान-माल सुरक्षा चाहते है । नहीं तो ये घृणित और विकृत लोग टुकड़ो में लोगों को धर्म के नाम पर मारते रहेंगे।

कार्टून बनाने वाले, और उस टीचर को जो कार्टून का सबब अपने स्टूडेंट को बता रहा था काट दिया गया।
इसकी आलोचना करने पर दुनियाभर के मुसलमान बॉयकाट फ्रांस प्रोडक्ट का प्रोपेगैंडा चलाये है।

सुन्नी मुस्लिम का नया खलीफा तुर्की राष्ट्रपति एर्डोगन बन गया जो इस्लाम के लिए बहुत घातक सिद्ध होगा। वैश्विक राजनीति में आतंकवाद और इस्लाम को वह बखूबी भुना रहा है। फ्रांस के साथ यूरोप को बहुत बड़ी कीमत चुकानी होगी अपने देशों में मुस्लिम शरणार्थियों को बसाने के एवज में।

समानता और मानवाधिकार के समर्थकों का यही जनाजा निकालेगे। इस्लाम में मुसलमान होता है मानवता नहीं । यदि इतनी सी चीज आपको मालूम नहीं तो मरने के लिए तैयार रहिये। गला रेत कर या बम से परखच्चे उड़ कर यही विकल्प शायद मिले।

नारेतक़बीरअल्लाहु अकबर ! बम के लिए तैयार रहिये 😥

9 thoughts on “मुस्लिमऔर इस्लामिक आतंकवाद !

    1. इस्लामिक आतंकवादी अल्लाह का नारा क्यों लगाता है। मुस्लिम विश्व भर बैन आतंकवाद का कैम्पेन क्यों नहीं चलाता??

      Liked by 1 person

  1. Islam doesn’t support terrorism. It’s a peace loving religion. Before writing a blog I think it’s necessary to know the facts. Charlie Hebdo published a series of cartoons which attracted condemnation. In the cartoon, their Prophet was kissing a man. I just want to ask you if Charlie Hebdo had shown Lord Shiva kissing a man would you still be okay with it? Although in our religion same sex relations have been mentioned. I still think many people aren’t open minded and know about this side of Hinduism.

    Like

    1. दिशा जी फिर झाँसे में आ रही है। कुल 57 इस्लामिक देश में देखिए कितनी शांति और उन देशों में कितने प्रतिशत गैर मुस्लिम रहते है। यदि मान भी लिया जाय कि यह शांति और प्रेम का धर्म है तो आतंकवादी अल्लाह के नाम को क्यों इस्तेमाल करता है। शार्ली एब्दो के कार्टून के विरोध में लोगों का कत्ल हो चुका है। इसे भी सही ठहराया जाय तो कितने मुस्लिम संगठन या देश आतंकवाद के खात्मे के बैन चलाया।
      मुस्लिम में 72 फिरके। अहमदिया ,शिया-सुन्नी के लिए काफिर है। शिया सुन्नी के लिए कुर्द ,यजीदी काफिर है। सुन्नी के लिए शिया काफिर है। मुहाजिर और अहमदिया को पाकिस्तान मुस्लिम नहीं मानता। सऊदी अरब भारतीय उपमहाद्वीप के मुस्लिम को सच्चा मुस्लिम नहीं मानता। कौम में नाम पर कत्लोगारत करने वाले धार्मिक नहीं हो सकते है। सांस्कृतिक प्रवंचना का मतलब यह नहीं है बन्दूक और बम से लोगों सच्चाई बताना।
      मुस्लिम अब भी नहीं जगता तो isis के कृत्य।
      काफिर,कुफ्र, शरिया जल्द ही मुस्लिम के लिए पूरे विश्व हालात रोहिंग्या जैसे होने वाले है। क्योंकि धार्मिक कट्टरता ही अगले विश्व का एक कारण बनेगी। मुस्लिम शरणार्थीयो को बसाने में किसी मुस्लिम देश का इंट्रेस्ट नहीं होता है। किंतु गैर मुस्लिम को मुस्लिम बनाने के लिए वह कुछ भी करने को तैयार है।
      बिना सच्चाई स्वीकार किये सुधार की गुंजाइश ही नहीं रहती ।

      Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s