भारत खाला का देश नहीं 🚩

विश्व में भारत की पहचान उसके सनातन धर्म,मन्दिर और बौद्धिक लोगों से होती रही है। भारत अपने ज्ञान,विज्ञान,चिकित्सा पद्धति, ज्योतिष विज्ञान और निर्माण कला से प्राचीन विश्व को आश्चर्यचकित कर दिया। विश्व में भारत बनने की होड़ लगी थी।

प्राचीन समय में ही भारत का सम्बन्ध बेबिलोनिया,हिब्रू, रोमन,यूनान, मिश्र आदि देश से रहा है। व्यापार अधिशेष सदा ही भारत की ओर था। रोमन,बौद्ध जैसे लोगों की कुत्सिगं चाले भारत में सनातन संस्कृति को नष्ट करने की, कभी सफल नहीं हो पायी। भारत के राजे विक्रमादित्य, पुष्यमित्र शुंग,गौतमीपुत्र शातकर्णी,वशिष्टि पुत्र पुलमाली,गुप्त सम्राट, हर्ष ,नागभट्ट ,बप्पा रावल और दक्षिण भारत के चोल- चालुक्य राजे सनातन धर्म के विद्रोहियों को भारत भूमि से खदेड़ते रहे है।

यह अनवरत संघर्ष बर्बर मुस्लिम लूटेरों के समय में भी जारी रहा। गजनवी,सैयद सालार,गोरी,

ऐबक,इल्तुतमिश, खिलजी,तुगलक से लेकर मुगल तक। यह जरूर है कि जो मुहम्मद गोरी के बाद वाले लुटेरे भारत को अपना आशियाना बनाया लेकिन बुतशिकन (मूर्ति तोड़ने वाला) की उपाधि भी धारण करते रहे। जजिया और तीर्थयात्रा कर लिया । भारत के मंदिर टूटते और लुटते गये इस्लामी सभ्यता भारत में पांव पसारती गयी।

अब आपके मन में प्रश्न होगा जब भारत में इतने बड़े बड़े योद्धा थे तब लुटेरा मुस्लिम भारत में कैसे सफल हो गया? इसको अच्छे से समझा जा सकता है जिसप्रकार आज सत्ता के गिद्ध भारत को नीचा दिखा रहे है भारत को तोड़ने के लिए किसी हद तक जाने को तैयार है उस समय यही घर के भेदी लंका ढाये। अपनों की मुखबिरी सत्ता पाने के लिए विदेशियों से की थी। भारत के राजे के पराजय में मुख्य कारण था गद्दारों का शत्रु खेमें में चले जाना। जिनकी तलवारें सैयद सालार को काट सकती थी
क्या वह अरबी,मुगल,पठान धड़ सर से अलग नहीं कर सकती थी।

भारत के राजाओं में एकता नहीं होने का फयदा विदेशियों द्वारा उठाया गया। बाकी का काम भारत के अंग्रेज परस्त इतिहासकारो ने कर दिखाया। अंग्रेज और बर्बर मुस्लिम लुटेरों का महिमामंडन करके दोष हिन्दू धर्म की कुरीतियों और ब्राह्मणों में खोज निकाला।

ईसाइयों को सबसे बड़ी कामयाबी तक मिली जब भारत के प्रधानमंत्री के पुत्र को एक बारबाला ने फ़सा के शादी कर ली। वह फायदा क्या था ? भावी प्रधानमंत्री और राजनीतिक का सहारा लेकर ईसाई मिशनरियों का खुला खेल फरुखाबादी चलाया जा सके। इस महिला के प्रभाव में कम से कम भारत के 5 करोड़ लोगों को ईसाई बनाया गया। एक नामचीन ईसाई धर्म परिवर्तन कराने वाली महिला को भारत रत्न भी दिया गया।

मुस्लिम शासको का उद्देश्य भारत में स्पष्ट था अवैध कब्जा और इस्लाम का प्रसार। ऐसा मत समझिये कि कोई मुस्लिम शासक किसी हिंदु से संवेदना रखता था। औरंगजेब के समय सबसे ज्यादा मनसबदार हिन्दू थे यह औरंगजेब हिंदुओं को हिन्दू से लड़कर वजीफा देकर इस्लामिक संस्कृति को बचाने के लिये किया था। हिन्दू तलवार हिन्दू के विरुद्ध मुस्लिम साम्राज्य की हिफाजत के लिए।

मुस्लिम शासक जितना हो सकता था उतना हिंदुओं का उत्पीड़न किया। अधोध्या, मथुरा,काशी,सोमनाथ,पाटन, पुरी आदि के मंदिरों को ध्वस्त किया।

दूसरा बड़ा लुटेरा ईसाई और अंग्रेज था जो भारत से व्यापार की नियत से आया और राजा बन बैठा। समाज में हिन्दू- मुस्लिम वैमनस्य का भरपूर लाभ लिया।

ब्राह्मण को सिनेमा,साहित्य के माध्यम विदूषक वही हिन्दू धर्म का बार बार मखौल उड़ाया गया। इसे अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के रूप में निरूपित किया।

न्यायालय ने हिन्दू को धर्म न मान कर एक जीवनपद्धति कहा जिसका मखौल फिल्मी भांड उड़ाते रहे है। जो आज भी अनवरत जारी है। किसी पैंगबर के कार्टून को चित्रित करने पर चित्रकार की गर्दन काट ली जाती है शोर शराबा विश्व भर में होता है मुस्लिमो की धार्मिक भावनाएं आहत हुई है इस लिए कमलेश तिवारी हो या चित्रकार उनकी गर्दन काटनी जायज है। इसका शोर भारत के टीवी डिबेट में भी सुनने को मिला है।

क्या हिंदु जब तक किसी हिन्दुधर्म के अपमान करने वाले कि गर्दन नहीं कटेगा तब तक यह फ़िल्म,साहित्य,
मुशायरे,मीडिया में हिंदू धर्म का अपमान होता रहेगा?

ईसाई -मुस्लिम जिसे आप धर्म समझ रहे हो वह धर्म होने की कोटि में नहीं है! जो धर्मावलंबी दूसरे धर्म वाले को हीन समझता । दूसरे की गर्दन काटने,अबोध जीवों को खाने का अधिकार देता है वह धर्म कैसे हो सकता है?

65 thoughts on “भारत खाला का देश नहीं 🚩

  1. It is interesting to know India in people with extensive knowledge of its history as you do. I had no idea about this struggle to preserve the Hindu identity. A good story. From Chile (South America)
    Manuel Angel

    Liked by 1 person

      1. बचपन से मुझे हिन्दी भाषा सीखने को जी करता था। वैसे ही सीखने के साथ मेरे पिताजी की कृपा से बात करने की मौका मिली। यहां ज्यादातर लोग मुझसे पूछते हैं कि कहीं मैं उत्तर भारत की हूं। लेकिन मैं आजतक दक्षिण भारत के सिवा कहीं भी गयी नहीं। 😁

        Liked by 1 person

      2. वही मैं भी आपकी हिंदी से आश्चर्य चकित रह जाता हूँ। आप चेन्नई में रहती है आपने बताया भी था दुबारा चेन्नई आया तो आपके दर्शन करने जरूर आऊंगा🙏🙏🙏🙏

        Like

      3. खाना कौन सा खिलायेगा मुझे दक्षिण के व्यंजन बहुत अच्छे लगे ऐसा नहीं लगा कि मेरा खाना नहीं है। और हाँ मुझे आप का तंजौर जिला और मदुरई का मीनाक्षी माता मंदिर बहुत अच्छा लगा।

        Like

      4. मैं शाकाहारी हूं। हमारे स्पेशल तमिलनाडु के पारंपरिक शाकाहारी भोजन।
        जी अच्छा। मेरे ससुराल तंजावुर जिले के हैं। मेरी बहन मदुरै में रहती है। वे भी वहां हिन्दी पढ़ाती है।
        आपका हार्दिक स्वागत। 💐

        Liked by 1 person

      5. अरे हम प्रयागराज के ब्राह्मण है जो पूर्ण शाकाहारी है जिसमें सेवई और खीर खाना बहुत पसंद है।

        साउथ में लोग मीठा क्यों नहीं खाते?

        Like

      6. खाते हैं। सूजी की हलवाई यहां अक्सर बनाते हैं। और पोंगल भी यहां की स्पेशल है।

        Liked by 1 person

      7. आपका सूजी का मीठा हलवा रहता है?
        रसगुल्ले,गुलाब जामुन,पेड़ा,

        जलेबी,रसभरी,रबड़ी आदि का प्रचलन आपके यहाँ बहुत कम है एक बेसन के लड्डू छोड़ कर?
        इन सबके बिना लगता है हम लोगों के जीवन में खालीपन रहता है।

        Like

      8. तब तो आप तंजावुर का मंदिर और कुंभकोणम मन्दिर के साथ नागपट्टनम बीच की अच्छी समझ होगी। दोनों मन्दिर पर खास कर कुम्भकोणम की कहानी बताइये।

        Like

      9. जी हां। कुम्भकोणम में ही मेरे ससुराल रहते थे। और मेरे पति की बचपन और पढ़ाई वहीं हुई। हम वहां कभी कभी जाते हैं। वहां के मंदिरों को देखने के लिए एक दिन काफी नहीं है। एक हफ्ते तक ठहरकर आसपास के सारे मंदिरों का दर्शन कर सकते हैं।

        Liked by 1 person

      10. जब हम आये तो आप ले चलिये कुम्भकोणम के पूरे मन्दिर दिखाने।
        चोल महाराज के समय के महत्व को बताएं?

        आपभी ब्राह्मण है?

        Like

      11. जी जरूर। हम भी ब्राम्हण हैं। यहां तमिलनाडु में हमें अय्यर कहते हैं।

        Like

      12. अय्यर का बहुत सम्मान यहाँ भी है बहुत संस्कारी होते है। तमिलनाडु में गांव के ब्राह्मण की शादी देखने की इच्छा है।
        ब्राह्मण की महिमा का वर्णन गोस्वामी बाबा अर्थात तुलसीदास बहुत अच्छे से रामचरितमानस में करते है।
        यह ग्रंथ उत्तरभारत के सभी हिन्दू के घर में रहता है । ब्राह्मणों के घर में रोज पढ़ा जाता है।
        जिन्हें संस्कृत आती है वह गीता पढ़ते है।

        Like

      13. आप धर्म से जुड़े तथ्य बताइये।
        घर में किसका पालन होता है जी अय्यर तो विष्णु भगवान के बड़े भक्त होते है।

        Like

      14. जी हां, यहां अय्यंगार वैष्णव होते हैं, अय्यर शिव और विष्णु के पूजा करते हैं।

        Liked by 1 person

      15. जी दक्षिण के ब्राह्मण ,उत्तर के ब्राह्मण से अपनी कन्या का ब्रह्मविवाह खुशी खुशी करते है कि नहीं। गंधर्व विवाह की बात अलग है।

        Like

      16. शिवोहं शिवोहं! केदार,मानसरोवर का प्लान है
        नेपाल के पशुपति नाथ भी बहुत जबरजस्त है।

        उत्तर भारत के रामभक्त तुलसीदास को जानती है?

        Like

      17. घर में दैनिक पूजा होती है। उपनयन हुए मर्द सुबह और शाम संध्या वंदन करना अनिवार्य है। खास दिनों में भोजन में प्याज और लहसुन का इस्तेमाल नहीं करते हैं।

        Liked by 1 person

      18. मैं सौंदर्य लहरी, शिवानंद लहरी, विष्णु सहस्रनाम, ललिता सहस्रनाम, नारायणीयम् के साथ साथ और भी सभी देवी , देवताओं के अष्टोत्तरों का पाठन करती हूं।

        Liked by 1 person

      19. गजब, तब आप विद्वत ब्राह्मणी है🐾🙏

        यही कारण है सनातन संस्कार स्त्रियों को मातृशक्ति कहता है कन्या का पूजन किया जाता है। अपनी छोटी बहन पुरुष वर्ग पैर छूकर आशीर्वाद ब्राह्मण में प्रचलन में है आपके यहाँ भी है। भगिनी और पुत्री के पैर छूने का रिवाज?

        Like

      20. अपने घर और ससुराल के धार्मिक संस्कार बताइये। क्या अभी कोई पुरोहित परम्परा में है?
        पूजा कैसे करती है,स्नान कितनी बार होता है।
        रामायण कौन सी पढ़ी जाती है? भागवत कथा,शिव पुराण,देवी भागवत,गीता में क्या क्या पढ़ती है। मां गायत्री की उपासना कैसे करती है?

        Like

      21. हर दिन स्नान करके भगवान की पूजा धूप, दीप नैवेद्य के साथ की जाती है। श्लोक पठन की जाती है। हर दिन सुबह हमें ऐसे ही शुरू होती है। स्नान के बाद हम पवित्रता के कारण किसी के पास नहीं जाते, पुराने कपड़ों को नहीं छूते हैं। रात सोने तक बिस्तर को छूना निषिद्ध है। लेकिन यह सभी बातें बच्चे लोग सुनते कहां?? मजाक उड़ाते हैं। इसलिए मैं यह आचरण अपने तक सीमित कर ली।

        Liked by 1 person

      22. बहुत अच्छा। संस्कृति में ? तमिल में?
        प्रचलन ऐसा ही यहाँ भी है। दिन में आप नहीं सोती है।
        गीले कपड़े में ब्राह्मणी भोजन बनाती है अभी भी

        Like

      23. मैं सिर्फ संस्कृत श्लोकों का पाठन करती हूं।
        गीले नहीं, अगले दिन ऊपर सुखाते हैं, स्नान करके लकड़ी से उतारकर पहनते हैं।

        Liked by 1 person

      24. उत्तर में काशी,प्रयाग,मथुरा,अयोध्या,नैमिषारण्य, पुष्कर,गया,पुरी में कहाँ गयी है?

        Like

      25. अय्यर ब्राह्मण के लिए कहा जाता है कि उनका मूल उत्तर है। यहाँ से गये थे ?

        Like

      26. मुझे लगा ही नहीं कभी की आप उत्तर भारत की नहीं है। न ही आपके लेख पढ़ कर के।

        Like

  2. तुलसी दास के हनुमान चालीसा रोज पढ़ते हैं।
    पाठ्य पुस्तकों में उनके दोहे भी मौजूद है।

    Liked by 1 person

    1. वाह ,बढ़िया है नेपाल के पशुपति नाथ से लेकर विदेशों में भी उनके द्वारा की गयी रचना से देवस्तुति होती है। उन्हें हनुमानजी का अवतार भी कहा जाता है। रामचरितमानस का अध्ययन नहीं किया है तो एक बार जरूर करिये🙏

      Liked by 1 person

    2. तमिलनाडु का ट्रडिशनल धार्मिक कल्चर जो जो है बताइये। मन्दिर का महत्व भी ,आज भी जीवंत अवस्था में है?

      Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s