सेकुलर और अफगान जलेबी…


::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::

नसीरुद्दीन शाह हो या जावेद अख़्तर इन्हें तालिबान से गुरेज नहीं है वो तो इनके दीन के कुरानी है इन्हें दिक्कत RSS ,विश्व हिन्दू परिषद है क्यों कि इनके नाचने वाले कार्यक्रम अर्थात पेट पर लात पड़ रही है।

जहाँ तक लाल्लुक तालिबान का है वह मनोरंजक का पेशा करने वाले को पहले लातों से पीटता, फिर पत्थर मरता है अंत में गर्दन काट देता है। जैसा कि पिछले दिनों मशहूर अफगानी कमेडियन के साथ किया गया।

भारत का सेकुलर जब मुसलमान का मामला आता है या तो वह मौन हो जाता है या ऊलजलूल की दलील देने लगता है। अफगानिस्तान के हालात से इन्हें सबक नहीं मिल रही है तालिबान,अलकायदा,हक्कानी नेटवर्क, isis कौन सही दाबेदार है और कुरान तथा अल्लाह का रहगुजर है।

पाकिस्तान चाहता है कि तालिबान गुट अब्दुल गनी बरादर अफगानिस्तान की सरकार का नेतृत्व न कर हक्कानी नेटवर्क करें। हक्कनी नेटवर्क पर पाकिस्तान का पूरा नियंत्रण है।उसके लिए बाकायदा ISI चीफ अफगानिस्तान पहुँचे है, जिससे दो बार विफल हुए सरकार गठन का काम पूरा किया जा सके। मीडिया चैनल पंजशीर लाइव ने दावा किया है कि हक्कनी नेटवर्क और तालिबान में नेता को लेकर हुए विवाद में गोली चलने से बरादर घायल हो गया है।

हिन्द के मुस्लिममीन की तरफ से मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने तालिबान का इस्तकबाल किया है उन्हें स्वतंत्रता की लड़ाई जीतने की बधाई दी है। भारत का मुस्लिम मजबूरी में भारत में रुका है क्योंकि 99% से ज्यादा मुस्लिम वोटिंग में अपना मत जिन्ना की लीग को दिया था। हिन्दू कितना मुस्लिम को सम्मान दे ले, लेकिन वह हिन्द की भूमि को मादरे वतन नहीं मानता। भारत को कुफ्र कहता है। भारत के मुसलमान के नाम,पहनावे,खान- पान में अरबी और मध्य एशिया की नकल है।

भारत के मौलवियों को चीन द्वारा उईगुर मुसलमानों का शोषण नहीं दिखाई पड़ता है उसे गुजरात दंगा , 370 और NRC की बहुत पीड़ा है। भारत के पड़ोसी मुस्लिम देश पाकिस्तान,बंगलादेश, अफगानिस्तान, मालदीव का मुसलमान भारत में शरण चाहता है जबकि भारत मे रहने वाला मुसलमान डरा हुआ है। ऐसा क्यों है? न सेकुलर न मौलवी इसका उत्तर दे पाता है।

भारत में एक नया चलन चला है कल तक सेकुलर हिंदु आज सेकुलर सनातनी बन गया है वह श्री राममन्दिर के निर्माण का श्रेय कोर्ट को देता है। पूर्व सरकारों में यही कोर्ट थी तब निर्णय को नहीं ले लिया। सेकुलर सनातनी के तरह तरह के प्रश्न है यह शुद्ध नहीं या सही नहीं है। RSS मुस्लिमों को बढ़ा रही है वही भारत से लेकर पाकिस्तान और बांग्लादेश के मुस्लिम अपने धर्म में RSS जैसा संगठन और मोदी जैसा नेता चाहता है।

भारत का मुस्लिम अभी 1000 वर्ष बाद भी भारत के विरोध में रहेगा जबतक भारत दारुल हर्ब से दारुल इस्लाम न हो जाये। कुछ अपने को प्रगतिशील कहते है सिर्फ हिन्दू धर्म को गाली देने और मखौल उड़ाने के लिए।

भारत में मुस्लिम न शांत रहा है न शांत रहेगा। बल्कि देश हिंदुओं का है कदम तुम्हें उठाने होंगे ,सोचिये कल अफगानिस्तान और पाकिस्तान की स्थिति भारत में हो जाये तब हिंदुओं को कौन देश शरण देगा नेपाल?

राष्ट्र की सुरक्षा के लिए गद्दारों को चिन्हित करके उन्हें देश से बाहर निकलना और उन्हें मृत्युदंड देना ही होगा। ज्यादा उदारता का परिणाम है अब्दुल और हसन के 13-13 बच्चें होकर सभी छोटे आर्थिक उपक्रम पर कब्जा जमाये है। भारत के संसाधनों को चट कर जा रहे है। ट्रेन से लेकर बस में मारामारी बनी है।

नाम अब्दुल मेरा मैं बूट पालिश करता हूं… आंख खोलिए सेकुलर के चक्कर में , उस विदेशी औरत की पार्टी के लिए यह देश छोड़ कर भागना न पड़ जाएं। शरण के लिए तुम्हारें पास यह हिन्द महासागर होगा,जिसमें डूब मरना पड़ेगा।

धर्म के मर्म को न समझने वाले हिंदुओं पूरे विश्व में आज तक के युद्ध के पीछे धर्म रहा है सिर्फ सनातन धर्म अन्य लोगों सताने को पाप कहता है मुस्लिम और ईसाई मजहबियों की संख्या बढ़ाने से जन्नत में सीट रिजर्व कर लेता है उसके लिए चाहे वह तलवार का प्रयोग करें, धन का करे या बम का, सब जायज है।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s